नया सवेरा लाएंगे, सपनों का देश बनाएंगे

Author: Himanshu Ranjan

0
187

हम भारत के जन-मन में एक विश्वास लिए
नया सवेरा लाएंगे, सपनों का देश बनाएंगे

हम आंबेडकर के चश्में को हर जन तक पहुंचाएंगे
जात-पात की सोचों से अब ऊपर ही उठते जाएंगे

हम उपनिषदों के संदेशों को आत्मसात कर ये बताएंगे
विविधता में एकत्व की पहचान भी करना सिखलाएंगे

हम गाँधी के सत्याग्रह की ताकत को आज़माएंगे
प्रेम, अहिंसा और निडरता की पूँजी खूब बढ़ाएंगे

हम विज्ञान को आधार बनाकर समस्याएँ सुलझाएंगे
धर्म के नाम पर राजनीति की बुनियाद जड़ से हिलाएंगे

हम चुनी हुई सरकार से पूछेंगे देश-हित में क्या हैं?
क्यों शिक्षा के मंदिरों का अब तक हाल बुरा हैं?

देश की युवा-शक्ति को सशक्त करने का समय जब बीता जा रहा हैं
तब इस आज़ाद देश में अब भी क्यूँ कोई पिंजड़े बनवा रहा हैं?

शिक्षा, स्वास्थ, रोज़गार, पर्यावरण, खेल,… हर क्षेत्र में,
इस देश की महिलाओं को अब अपना परचम फहराना हैं

हम भारत को आर्थिक, आध्यात्मिक और वैज्ञानिक महाशक्ति बनाएंगे
स्वदेश निर्माण के इस पावन यज्ञ में हम अपना श्रम लगाएंगे

हम भारत के जन-मन में एक विश्वास लिए
नया सवेरा लाएंगे, सपनों का देश बनाएंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here