आज़ादी का पर्व

Author: Himanshu Ranjan

0
644

दिनकर उदित, पवन प्रमुदित,
मुरझाईं पंखुरियां सुजीवित,
विहग पंख प्रहार कर उड़े उछल,
अहा! आनंद-क्षण है प्रत्येक पल। 

व्योम में  तिरंग नील-चक्र फहरा रहा,
प्रतीक पुंज आज़ाद ध्वज लहरा रहा,
शत कोटि भारतवासी गा रहें,
मुक्ति-गीत स्वराज की सुना रहें। 

अधरों पर, पलकों पर, शिखाओं पर,
तैर रही सेनानियों की गाथाओं पर,
स्नेह चुम्बन, दृग-जल वंदन, श्रद्धा-सुमन,
तर्पण-अर्पण, रोम-रोम-कण-कण, संपूर्ण समर्पण!

आशा-पूर्ण ह्रदय का मन, स्वदेश हो अग्रतम,
सुषुप्त देशवाशियों! उठो! करो कठिन परिश्रम,
जातिदोष उन्मूलन, नारी-शक्ति आह्वाहन,
राष्ट्र-निर्माण-कार्य को करो नित चिंतन-गहन। 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here